Thursday, 9 October 2014

महाराष्ट्र में मुकाबला पीएम मोदी ...




मुंबई। महाराष्ट्र में वैसे तो कागज पर मुकाबला स्पष्ट रूप से पांच कोणों का नजर आ रहा है, लेकिन वास्तव में असली मुकाबला 'चौकड़ी' बनाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिख रहा है। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने जब से 'टीम मोदी' के अभियान की तुलना बीजापुर के अफजल खान की विजयी सेना से की थी, उसके बाद से पूर्व सहयोगी भारतीय जनता पार्टी के साथ उसके दोबारा मेल की उम्मीद क्षीण हो गई। हालांकि, पिछले 25 सालों में दोनों पार्टियों के बीच रिश्ते नरम-गरम रहे हैं, लेकिन 15 अक्टूबर को होने वाले विधानसभा चुनाव से पूर्व यह शिवसेना की तरफ से बीजेपी पर किया गया सबसे बड़ा हमला था।


शिवसेना और बीजेपी ने 1995-99 के बीच महाराष्ट्र में सरकार बनाई थी, जब 1999 में केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार थी, लेकिन केंद्र में मौजूदा मोदी सरकार के दौरान 25 सितंबर को बीजेपी ने सर्वसम्मति से शिवसेना से गठबंधन तोड़ लिया। दोनों के गठबंधन टूटने से आश्चर्यजनक घटनाक्रम सामने आ रहे हैं, क्योंकि अब हर पार्टी सत्ता की राह में उम्मीद की किरण देख रही है।


इधर, कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) का वर्षों पुराना गठबंधन भी इसी दिन टूट गया। महाराष्ट्र में पार्टियों की 'चौकड़ी' में शिवसेना, कांग्रेस, राकांपा और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) हैं, जो एकदूसरे की अपेक्षा बीजेपी को टक्कर देने की कोशिश ज्यादा कर रहे हैं।


मौजूदा परिस्थितियों में महाराष्ट्र बीजेपी के पास मुख्यमंत्री पद का वह उम्मीदवार नहीं है, जिसे सभी पसंद करते हों और इसका सारा वोट मोदी की लोकप्रियता पर निर्भर करता है। मोदी महाराष्ट्र बीजेपी के लिए मसीहा बन गए हैं। उनका अभियान, महाराष्ट्र को नंबर एक बनाने का उनका वादा और शिवसेना को छोड़ कर सभी पार्टियों की उनकी आलोचना चर्चा का मुख्य मुद्दा है। बीजेपी-शिवसेना गठबंधन के टूटने से सभी पार्टियां मोदी और बीजेपी के ऊपर बढ़त बनाने की कोशिश कर रहे हैं।


आज परिस्थितियां ऐसी हैं कि शिवसेना, मनसे, राकांपा और कांग्रेस एकदूसरे की आलोचना कम कर रहे हैं, लेकिन मोदी और अमित शाह पर उनका हमला तेज रहता है। इधर, महाराष्ट्र में स्टार नेता खुले तौर पर पूछने लगे हैं कि मोदी भारत के प्रधानमंत्री हैं या गुजरात के। इस शोर-शराबे के बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) बीजेपी के समर्थन में आगे आई है, और उसे लगता है कि महाराष्ट्र में सरकार बनाने का यह उचित समय है।


दूसरे अपडेट पाने के लिए IBNKhabar.com के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।


IBNkhabar के मोबाइल वर्जन के लिए लॉगआन करें m.ibnkhabar.com पर!


अब IBN7 देखिए अपने आईपैड पर भी। इसके लिए IBNLive का आईपैड एप्स डाउनलोड कीजिए। बिल्कुल मुफ्त!






Categories:

0 comments:

Post a Comment