Wednesday, 10 September 2014

बहसः गरबा में मुस्लिमों को मनाही ...




नई दिल्ली। 'लव जेहाद' का विरोध अब गरबा पंडालों तक पहुंच गया है। इंदौर से बीजेपी विधायक उषा ठाकुर ने गरबा के आयोजन से मुस्लिम युवकों को दूर रखने का अभियान छेड़ा है।


उन्होंने गरबा आयोजकों को फरमान जारी किया है कि मुस्लिम युवकों को एंट्री न दी जाए। गरबा में आने वाले हर नौजवान का पहचान पत्र देखकर ही उसे एंट्री दी जाए। विधायक उषा ठाकुर के कार्यकर्ता गरबा के दौरान पंडालों की निगरानी रखेंगे। यही नहीं गरबा में शामिल होने वाली लड़कियों को पहनावे का खास ख्याल रखने की नसीहत दी है।


राधा कृष्ण के रास का प्रतीक गरबा भी अब लव जेहाद के विवाद में फंस गया है। इंदौर में इस साल मुसलमान लड़के गरबा के आयोजनों में शरीक नहीं हो पाएंगे। गरबा में एंट्री से पहले आपको अपना पहचान पत्र दिखाना होगा। महज तिलक और कलावा ही आपकी हिंदू पहचान बताने के लिए काफी नहीं होगा।


गरबा में लव जेहाद का ये मुद्दा इंदौर से बीजेपी विधायक उषा ठाकुर ने गरमाया है। उषा ठाकुर का आरोप है कि हर नवरात्रि के बाद तकरीबन 4.5 लाख लड़कियों का धर्मांतरण होता है। इस पर रोक लगाने के लिए मुसलमान युवकों को गरबा में आने से रोकना जरूरी है। उषा ठाकुर ने इस सिलसिले में आयोजकों को चिट्ठी लिखकर फरमान जारी किया है।


रविवार को विधायक उषा ठाकुर ने मंडल और बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं की बैठक बुलाई। कार्यकर्ताओं को निर्देश दिए गए कि शहर के सभी गरबा आयोजकों से अपील की जाए कि गरबे में भाग लेने वाले युवकों की पहचान सुनिश्चित करें। खास ध्यान रखें कि दूसरे समुदाय के युवक गरबों में भाग न ले सकें। यही नहीं गरबा करने वाली युवतियों के पहनावे पर नजर रखी जाए। लड़कियां लो-वेस्ट और बैक लेस पोशाक पहनकर आयोजन में न जाएं। जाहिर है कट्टर हिंदूवादी छवि वाली विधायक के इस फरमान ने एक नया विवाद खड़ा कर दिया है। विरोधियों का कहना है कि ये भारतीय समाज की साझी विरासत को बांटने की साजिश है।


जाहिर है इन दिनों लव जेहाद एक चालू फिकरा है। हिंदू मुसलमानों के बीच प्रेम विवाह का हर मामला इसी नजरिए से देखा जा रहा है। यूपी के बाद अब ये बुखार मध्य प्रदेश पहुंच गया है। सवाल है कि लव जेहाद को लेकर अब तक खामोश क्यों थीं उषा ठाकुर? ठाकुर ने गरबा से धर्मांतरण का मामला पहले क्यों नहीं उठाया? हर साल 4.50 लाख लड़कियों के धर्मांतरण की शिकायत पहले क्यों नहीं की? क्या त्योहार में शामिल होने से रोकना संविधान की भावना का अपमान नहीं? मोदी सरकार बनने के बाद ही क्यों उठ रहे हैं लव जेहाद के मामले?


फिलहाल इस मामले को लेकर ऑल इंडिया मुस्लिम एजेंडा के संस्थापक शहजाद पूनावाला ने अल्पसंख्यक आयोग को पत्र लिख कर अपनी शिकायत दर्ज कराई है और कार्रवाई की मांग की है।


आज का मुद्दा में आज इसी पर चर्चा हुई। चर्चा में हिस्सा लिया मशहूर गायिका जसपिंदर नरूला, ऑल इंडिया मुस्लिम एजेंदा के संस्थापक और वकील शहजाद पूनावाला, ऑल इंडिया मुस्लिम लॉ बोर्ड के सदस्य कमाल फारूकी, कारोबारी जफर सरेशवाला, बीजेपी विधायक उषा ठाकुर, मुंबई कांग्रेस नेता और अभिनेत्री नगमा और कानपुर से बजरंग दल के पूर्व संयोजक प्रकाश शर्मा। देखें पूरा वीडियो।


दूसरे अपडेट पाने के लिए IBNKhabar.com के Facebook पेज से जुड़ें। आप हमारे Twitter पेज को भी फॉलो कर सकते हैं।


IBNkhabar के मोबाइल वर्जन के लिए लॉगआन करें m.ibnkhabar.com पर!


अब IBN7 देखिए अपने आईपैड पर भी। इसके लिए IBNLive का आईपैड एप्स डाउनलोड कीजिए। बिल्कुल मुफ्त!






Categories:

0 comments:

Post a Comment